Home Remedies For Menstruation: माहवारी के लिए आयुर्वेदिक औषधि

Home Remedies For Menstruation: यह आर्टिकल उन सभी महिलाओं के लिए है जिन्हे ज्यादा माहवारी की समस्या बनी रहती है। इसमें माहवारी के लिए उन सभी आयुर्वेदिक औषधियों के बारे में बताया गया है जिसका इस्तेमाल कर के आप माहवारी को संतुलित या ठीक कर सकते है। तो चलिए जानते है Menstruation Home Remedies के बारे में।

Home Remedies For Menstruation.
Home Remedies For Menstruation

दारुहल्दी : Home Remedies For Menstruation

इसका गुल्म विशाल काय होता है, जिसमे पतनशील कंटक लगे होते है, जिसमे स्वर्णिम पीत वर्णी पुष्प होते है। औषधि के रूप में दारुहल्दी की मूल का छाल, कांड, काष्ठ और फल का इस्तेमाल किया जाता है। माहवारी के लिए आयुर्वेदिक औषधि के रूप में दारुहल्दी की चूर्ण का इस्तेमाल लाभकारी होता है।

सदाबहार : माहवारी के लिए आयुर्वेदिक औषधि

इसे सदपुष्पा के नाम से भी जाना जाता है, इसका गुल्म 30 से 60 से. मी. ऊँचा होता है। सदाबहार के पत्ते सादा और अभिमुख होते है, तथा इसके पुष्प सफेद या गुलाबी रंग के होते है। सदाबहार का स्वाद तिक्त होता है। माहवारी के उपचार के लिए आयुर्वेदिक औषधि के रूप में सदाबहार के स्वरस को 10 से 20 मि.ली. लेने से फायदा होता है।

आमलकी : माहवारी के उपचार के लिए आयुर्वेदिक औषधि

इसे आमला या आँवला भी कहा जाता है, इसका वृक्ष मध्यम कद का होता है। आमलकी के पत्र छोटे छोटे इमली के पत्तों के जैसे होते है। इसके पुष्प एवं लिंगी बादामी पीतवर्णी रंग के तथा छोटे छोटे होते है। आमलकी के फल डालियों में से सटे तथा गोल चमकदार छः रेखओं से युक्त होते है। माहवारी के उपचार के लिए आयुर्वेदिक औषधि के रूप में आमलकी के फल का चूर्ण इस्तेमाल करने से लाभ प्राप्त होता है।

फरहद

इसे पारिभद्र या पांगारा के नाम से भी जाना जाता है। औषधि के रूप में इसके पत्र और छाल का इस्तेमाल किया जाता है। माहवारी के इलाज के लिए आयुर्वेदिक औषधि के रूप में फरहद के पत्रों का स्वरस एक से दो मि.ली. पिने से लाभ होता है।

सोन चम्पा

इसका वृक्ष ऊँचा सूंदर सदाहरित होता है, जिसकी औसतन उचाई 20 से 25 फिट ऊँचा होता है। सोन चम्पा के पत्ते चिकने और नोकदार होते है, इसका पुष्प काफी सुगंधित होता है जो हरिताभ पीत वर्णी रंग का होता है। माहवारी के उपचार के लिए सोन चम्पा के मूल की छाल का स चूर्ण लेने से लाभ होता है।

माहवारी के लिए आयुर्वेदिक औषधि लोध

इसका वृक्ष लघु होता है जिसकी औसत उचाई 20 फुट होती है। लोध की छाल घूसर रंग की होती है तथा पत्ते अंडाकार होते है। इसके पुष्प गोल दन्तुर पुष्प सुगंधित पीतवर्णी तथा गुच्छों में होते है। माहवारी के उपचार के लिए लोध के छाल का चूर्ण का इस्तेमाल करने से लाभ प्राप्त होता है।

बड़ी जामुन

जामुन का वृक्ष काफी बड़ा होता है, जिसकी छाल सफेद होती है। इसके पत्ते सरल, अभिमुखी, चिकने, चमकीले लंबाग्र या कुण्ठिताग्र होते है। जामुन के पुष्प सफेद तथा सुंगधित होते है, इसके फल गोल गुलाबी जामुनी होते है। माहवारी के उपचार के लिए बड़ी जामुन के पत्तो का रस पीलाने से फायदा होता है।

Home Remedies For Menstruation
Home Remedies For Menstruation

लाल झाऊ

यह एक चिरायु टेढ़ा मेढ़ा गुल्म है, जिसकी उचाई लगभग 2 मीटर होता है। इसकी छाल लाल और फटी हुए होती है तथा पत्ते सूक्ष्म चिकने तथा शल्क सदृश्य होते है। लाल झाऊ के पुष्प छोटे छोटे द्विलिंगी श्वेत या गुलाबी रंग के होते है। माहवारी के इलाज के लिए लाल झाऊ, गोक्षुरु, मुसली, शतावर तथा मिश्री सब सम्भाग में चूर्ण बनाकर लेने से लाभ होता है।

माहवारी के इलाज के लिए आयुर्वेदिक औषधि जंगली प्याज

यह एक लघु क्षुप होता है जिसकी लम्बाई 6 से 18 इंच लम्बा होता है। इसके पुष्प बादामी रंग के होते है तथा स्वाद तिक्त कटु होता है। औषधि के रूप में जंगली प्याज का कंद का इस्तेमाल किया जाता है। माहवारी की समस्या को दूर करने के लिए जंगली प्याज के कंद का रस लेने से लाभ प्राप्त होता है।

खस

यह एक प्रकार की घास होती है जो 3 से 5 फिट ऊँची सघन झुमकों में होती है। इसके पत्ते 1 से 2 फूट लम्बे होते है तथा पुष्प पीतवर्णी या रक्तवर्णी होते है। औषधि के रूप में इसके मूल का इस्तेमाल होते है जिसका स्वाद तिक्त मधुर होता है। माहवारी के लिए आयुर्वेदिक औषधि के रूप में खस के मूल का चूर्ण लेने से लाभ होता है।

यह भी पढ़े :

Home Remedies For Indigestion: अपच के उपचार के लिए आयुर्वेदिक औषधि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 Comment